Updates

... क्या इस दिन के लिए शैख़ अब्दुल्लाह कश्मीर को भारत में लाये थे कि आप उनके जवान बच्चों की आंखें फोड़ दो: के सी त्यागी

लेकिन आज उन के भी दिल तोड़ दिए हम लोगों ने ... इस दिन के लिए शैख़ अब्दुल्लाह कश्मीर को भारत में नहीं लाये थे कि आप उनके जवान बच्चों की आंखें फोड़ दो. आर्मी का हेड बयान दे दे. अपने और अपने मुल्क के बच्चों के लिए ब्यान दे दे ... नहीं हम तुम को ठीक कर देंगे.

By: Ahmad Mohammad
... Did this day that Sheikh Abdullah had brought Kashmir to India, that you should burst his young children's eyes: KC TIYAGI

JDU के वरिष्ठ नेता और देश के चोटी के सियासत दानों में से एक KC Tiyagi ने कहा है कि राजा हरी सिंह की वजह से 15 अगस्त 1947 को कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं बन सका. उन्हों ने एक प्रोग्राम को संबोधित करते हुए कहा कि राजा हरी सिंह की वजह से 15 अगस्त 1947 को कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं बन सका, लेकिन इलज़ाम यह कि शैख़ अब्दुल्लाह पाकिस्तान का एजेंट था. उन्हों ने इस बात का दवा किया कि कश्मीर अगर आज भारत का हिस्सा है तो सिर्फ शैख़ अब्दुल्लाह की वजह से है.

http://watansamachar.com/Rahul-Gandhi-held-a-meeting-with-senior-MP-Congress-leaders

 उन्हों ने कहा कि उस वक़्त राजा हरी सिंह ने कश्मीर के मामले में लियाक़त अली और जवाहर लाल को चिट्ठी लिख दी और कहा कि जो उन का यह 5 सूत्री प्रोग्राम मान लेगा वह उस के साथ चले जायेंगे. उन्हों ने कहा कि यह दुःख की बात है कि लियाक़त अली ने राजा हरी सिंह के फार्मूले पर मोहर लगा दी.

 उन्हों ने कहा कि उस वक़्त बड़ा संकट पैदा हुआ... राजा हिन्दू प्रजा मुस्लिम ... सिर्फ और सिर्फ शैख़ अब्दुल्लाह की वजह से कश्मीर आज भारत का हिस्सा है. सिर्फ और सिर्फ एक आदमी की वजह से. वह जेल में है जवाहर लाल उस को छुड़वाने जाते हैं. वह जेल से छूटते हैं. जिन्ना साहब श्रीनगर जाते हैं. वह कहते हैं आप थ्योरेटिकल स्टेट बना रहे हैं. मैं गाँधी और जवाहर लाल के सेक्युलर INDIA में रहना चाहता हूँ.

 लेकिन आज उन के भी दिल तोड़ दिए हम लोगों ने ... इस दिन के लिए शैख़ अब्दुल्लाह कश्मीर को भारत में नहीं लाये थे कि आप उनके जवान बच्चों  की आंखें फोड़ दो. आर्मी का हेड बयान दे दे. अपने और अपने मुल्क के बच्चों के लिए ब्यान दे दे ... नहीं हम तुम को ठीक कर देंगे.

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.