तीसरे लिंग वर्ग को लेकर मुस्लिम फोरम की सरकार से मांग

तीसरा लिंग वर्ग हमारे देश और समाज का अंग है और हमें इसका सशक्तिकरण करना होगाः डॉ० जसीम मोहम्मद

By: Abdul Mabood

अलीगढ़: फोरम फॉर मुस्लिम स्टैडीज एण्ड एनालिसिस (एफ०एम०एस०ए०) ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति से माँग की है कि समाज के तीसरे लिंग वर्ग को अमुवि अपने दूरस्थ शिक्षा केन्द्र के द्वारा मुफ्त में शिक्षा प्रदान करें।

Dr Jasim Mohammad.JPG

डॉ० जसीम मोहम्मद

इस सम्बन्ध में मुस्लिम फोरम के निर्देशक डॉ० जसीम मोहम्मद ने बताया कि हमारे समाज मे तीसरे लिंग वर्ग बहुत महत्वपूर्ण है जो हमेशा से हाशिये पर रहा है। उन्होंने कहा कि कोई भी समाज अथवा देश तभी पूर्ण रूप से विकास पथ पर आगे बढ़ता है जब समाज के सभी वर्गो का विकास है।

 

 उन्होंने कहा कि 2014 मे उच्चतम न्यायालय ने तीसरे लिंग वर्ग को एक पृथक लिंग के रूप में मान्यता प्रदान कर दी है। उन्होने कहा कि इन्दिरा गाँन्धी नेशनल ओपेन युनीवर्सिटी (नई दिल्ली) जामिया मिलिया इस्लामिया (नई दिल्ली) और मनान्सरनियम सुंदरनार विश्वविद्यालय (तामिलनाडू) ने तीसरे लिंग वर्ग को अपने दूरस्थ शिक्षा केंद्रों द्वारा मुफ्त में शिक्षा प्रदान आ आरम्भ किया है।

 

डॉ० जसीम मोहम्मद ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय देश का एक एतिहासिक विश्वविद्यालय है जो समाज और देश के विकास मे अपना योगदान देता रहा है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम फोरम ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति से पत्र के माध्यम से माँग की है कि तीसरे लिंग वर्ग को अमुवि दूरस्थ केन्द्र के द्वारा मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाए।

 

डॉ० जसीम मोहम्मद ने कहा कि अमुवि कुलपति अमुवि को विश्व पटल पर नम्बर एक शैक्षिक संस्थान बनाने के प्रति गम्भीर है और आशा है कि अमुवि के संस्थापक सर सैयद अहमद खान के 200 वें जन्म दिन पर अमुवि के तीसरे लिंग वर्ग के लिए मुफ्त शिक्षा प्रदान करने का निर्णय लेगी।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.