Hindi Urdu

गठबंधन पर कांग्रेस नेता और इस मुस्लिम ने खड़े किये सवाल

वहीं दूसरी ओर इस गठबंधन पर मुस्लिम पॉलीटिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ तस्लीम रहमानी ने भी जोरदार हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि 18 परसेंट मुसलमानों को इस गठबंधन में लावारिस छोड़ दिया गया है. उन्होंने

By: Watan Samachar Desk
Congress Leader Hanzala Uthmani and President Muslim Political Council of India Dr Tasleem Rahmani

नयी दिल्ली: उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के गठबंधन पर जोरदार प्रहार करते हुए कांग्रेस पार्टी के नेता और युवा चेहरा हन्ज़ला उस्मानी ने इसे महत्वाकांक्षी और लालची बताया है. उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर अपने पोस्ट में कहा है कि "यह गठबंधन महत्वाकांक्षी है. लालच का है दलितों मुसलमानों के वोट के सहारे खुद की कुर्सी के लिए चुनाव के बाद यूपीए या एनडीए को सीट बेचने का काम करेंगे और कुर्सी हासिल करेंगे, लेकिन गठबंधन को बधाई उम्मीद है कि देश हित के लिए यह काम करेंगे".

 

वहीं दूसरी ओर इस गठबंधन पर मुस्लिम पॉलीटिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ तस्लीम रहमानी ने भी जोरदार हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि 18 परसेंट मुसलमानों को इस गठबंधन में लावारिस छोड़ दिया गया है. उन्होंने व्हाट्सएप पर जारी अपने पोस्ट में लिखा है कि

"21% दलित वोट मायावती 38 सीट

7% यादव वोट अखिलेश 38 सीट

1.7% जाट वोट अजीत सिंह 2 सीट ( R.L.D )

18% मुस्लिम वोट लावारिस " भाजपा हराओ अभियान " मे ( घंटा )

कांग्रेस के लिए बिना गंठबंधन के अमेठी और रायबरेली की सीट छोड़ी...

नोट : गठबंधन समर्थक मुसलमानों को दरी-चादर बिछानें की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी दी जा सकती है ये उपकार कोई कम थोड़ी है...।

#जय_सेकुलरवाद

#दरी_कहा_बिछानी_है"

 

ज्ञात रहे इस गठबंधन को सपा और बसपा दोनों सुप्रीमो ऐतिहासिक बता रहे हैं. दोनों का कहना है कि आज देश के लिए ऐतिहासिक दिन है. अहम बात यह है कि ट्विटर पर अपने पोस्ट में अखिलेश यादव ने मुसलमानों का नाम तक लेना गवारा नहीं किया और अल्पसंख्यक शब्द से ही काम चलाना मुनासिब समझा.

 

उन्हों ने ट्वीट किया "आज का दिन हमारे देश के लिए ऐतिहासिक है जब भाजपा से देश के संविधान व सौहार्द की रक्षा तथा दलितों, वंचितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों पर हो रहे उनके अन्याय व अत्याचार से लड़ने के लिए बसपा-सपा दोनों एक साथ आ गये हैं. ये एकजुटता भारतीय राजनीति को एक नयी दिशा देगी और निर्णायक साबित होगी"

 

 वहीं अहम बात यह है कि बसपा सुप्रीमो अपने संबोधन में बार बार दुसरे समुदायों के साथ मुस्लिम समुदाय का नाम लेती रहीं ऐसे में साफ है कि सपा का मुसलमानों के लिए किया नज़रिया है और सपा मुस्लिम समुदाय के बारे में क्या सोचती है?

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.