अल्पसंख्यक लड़कियों के लिए छात्रवृत्ति का बजट बढ़ाने का फैसला

Minority girls decide to increase scholarship budget

By: Watan Samachar Desk

 नयी दिल्ली, 22 जुलाई: केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से स्कूली बच्चियों की दी जाने वाली छत्रवृत्ति के लिए निर्धारित बजट में इस बार करीब 15 फीसदी तक की बढ़ोतरी का फैसला हुआ है।


 
वर्ष 2017-18 में इस योजना के तहत करीब 1,15,000 लड़कियों को छत्रवृत्ति दी गुई थी और इसके लिए करीब 78 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित था। एमएईएफ के सचिव रिजवानुर रहमान ने 'भाषा' को बताया, ''बेगम हजरत महल योजना के तहत इस बार हमने फैसला किया है कि बजट को कम से कम 90 करोड़ रुपये करेंगे। इस बारे में हमने मंत्रालय को भी अवगत कराया है।''


  उन्होंने कहा, ''वर्ष 2017-18 में कुल तकरीबन 1,15,000 बच्चियों को छत्रवृत्ति दी गयी है। हमारी कोशिश होगी 2018-19 में लाभार्थियों की संख्या इससे कहीं ज्यादा हो।'' रहमान ने कहा, ''अभी भी इस योजना के बारे में जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है। हम इस बार कोशिश कर रहे हैं कि जागरूकता फैलाने के अलग अलग माध्यमो से आक्रामक प्रचार अभियान चलाया जाए। ''


  उन्होंने कहा कि देश भर में एमएईएफ के करीब 300 'गरीब नवाज कौशल विकास केंद्र' संचालित हो रहे हैं। इन केंद्रों में माध्यम से भी बेगम हजरत महल छत्रवृत्ति योजना के बारे जागरूकता फैलाई जा रही है। गौरतलब है कि इस योजना के तहत आवेदन करने वाली नौवीं और 10वीं कक्षा की लड़कियों को सालाना पांच-पांच हजार रुपये और 11वीं और 12वीं कक्षा की छात्राओं को छह-छह हजार रुपये दिये जाते हैं।

मंत्रालय की अधीनस्थ संस्था 'मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन' (एमएईएफ) ने स्कूली लड़कियों के चलाई जाने वाली अपनी 'बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छत्रवृत्ति योजना' के कुल बजट में बढ़ोतरी करने के फैसले के साथ यह भी निर्णय लिया है कि इस साल आक्रामक प्रचार अभियान चलाया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा बच्चियां छत्रवृत्ति के लिए आवेदन कर सकें।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.