Updates

कांग्रेसी धुरंधरों को पछाड़ने में सफल रहे नदीम जावेद

Ahmad Mohammad
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के साथ नदीम जावेद बायें

नई दिल्ली: NSUI के पूर्व अध्यक्ष और जौनपुर से नवजवान विधायक नदीम जावेद को कांग्रेस पार्टी ने अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट का राष्ट्रीय अध्यक्ष ऐलान किया है. नदीम जावेद को यह जिम्मेदारी पार्टी के जनरल सेक्रेटरी इंचार्ज अशोक गहलोत के हस्ताक्षर स दी गयी है. जारी प्रेस रिलीज़ में कहा गया है कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने नदीम जावेद के नाम को कांग्रेस पार्टी के अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट के अध्यक्ष के तौर पर मंजूरी दे दी है.

 NADEED JAVED.jpg


 इससे पहले गुजरात से आने वाले खुर्शीद अहमद सैयद अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट की जिम्मेदारी संभाल रहे थे, अब नदीम जावेद खुर्शीद अहमद सैयद की जगह लेंगे. ज्ञात रहे कि इमरान क़िदवई के अध्यक्ष पद छोड़ने और नदीम जावेद के अध्यक्ष पद संभालने के बीच खुर्शीद अहमद सैयद ने एक लंबा समय अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट के अध्यक्ष के तौर पर बिताया है, लेकिन खुर्शीद अहमद सैयद अल्पसंख्यकों को कांग्रेस पार्टी से जोड़ने में पूरी तरह विफल रहे हैं, ऐसे में नदीम जावेद के कंधे पर बिखरे हुए लोगों को पार्टी की तरफ लाने की बड़ी जिम्मेदारी होगी.

 


 क्या नदीम जावेद इस में सफल होंगे यह तो आने वाला वक्त बताएगा, लेकिन नदीम जावेद के लिए खुर्शीद अहमद सैयद के जरिए कि गयी खाई को पाटना आसान नहीं होगा. खुर्शीद अहमद सैयद पर अक्सर कांग्रेस पार्टी के अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट को कमजोर करने का आरोप भी लगता रहा है, हलाकि खुर्शीद अहमद सैयद हमेशा इन आरोपों का खंडन भी करते आए हैं और वह यह कहते रहे हैं कि वह मीडिया से दूर रहकर सिर्फ काम करने में विश्वास रखते हैं, लेकिन धरातल पर सच्चाई यह है कि जब से खुर्शीद अहमद ने चार्ज संभाला था तब से लेकर आज तक कांग्रेस पार्टी अल्पसंख्यकों का विश्वास जीतने में पूरी तरह विफल रही है.

 



  नदीम जावेद के बारे में यह कहा जाता है वह पार्टी का युवा चेहरा हैं. राहुल गांधी के करीबी हैं और काम करने में विश्वास रखते हैं. ज्ञात रहे कि इससे पूर्व पार्टी अल्पसंख्यक डिपार्टमेंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर पूर्व लोकसभा सांसद जफर अली नकवी पूर्व राज्यसभा सांसद मीम अफ़ज़ल, ओबीसी आयोग के पूर्व सदस्य शकील उज़्ज़मां अंसारी और SC आयोग के पूर्व समन्वयक डॉ ताजुद्दीन अंसारी समेत कई नाम चल रहे थे, लेकिन नदीम जावेद सब को पछाड़कर अध्यक्ष बनने में सफल रहे. नदीम जावेद की नियुक्ति को सीधे-सीधे राहुल गांधी की पसंद के तौर पर देखा जा रहा है

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.