Hindi Urdu

NEWS FLASH

मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत की बिक्री का दोषी आरएसएस या कोई अंतरराष्ट्रीय संगठन? पढ़िए पूरा सच

मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत बिक्री के लिए उपलब्ध है, आप खरीदना चाहते हैं, तो जल्दी कीजिये...

By: वतन समाचार डेस्क

 

ज्ञात रहे कि अधिकतर मुस्लिम संगठनों या आंसू बहा कर मुसलमानों की ठीकेदारी का तथाकथित दावा करने वालों को सिर्फ आरएसएस या इजराइल पर टीका टिप्पणी वाली खबरें ज़्यादा पसंद आती हैं. उनके पास न आत्म निरिक्षण का समय है न आत्म चिंतन का. वह खुद के ऊपर टिका टिपण्णी वाली खबरों को आरएसएस और इजराइल की साज़िश बताते हैं और आत्म चिंतन के लिए तैयार नहीं होती और मुस्लिम क़ौम को खुद के ज़रिये बुने गए मकड़ जाल से बाहर नहीं आने देना चाहते हैं. इस लिए  इक़बाल ने कहा था " क़ुव्वते फ़िकरो अमल पहले फना होती है - तब किसी क़ौम की शौकत पे ज़वाल आता है". और ऐसे ही लोगों के लिए कहा गया है कि “जब नाश मनुज पर छाता है - पहले विवेक मर जाता है.” अब इसी लिए शायद मुस्लिम युवा इन से सवाल कर रहे हैं, जिस पर अभी भी वह आरोप प्रत्यारोप से बहार नहीं आना चाहते हैं...

 

 

नई दिल्ली: इसे हमारे समुदाय के भाग्य का रोना कहें या नेताओं और राष्ट्रीय नेताओं की अक्षमता का परिणाम। एक तरफ हम कुछ नए काम नहीं कर पा रहे हैं और दूसरी तरफ अगर हमें कुछ काम विरासत (पूर्वजों से) में मिले हैं तो हम अपनी अक्षमता के कारण उसे बर्बाद भी कर रहे हैं।

 

भारतीय मुस्लिम संगठनों के एक संघीय निकाय (UMBRELLA BODY) मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत की वेबसाइट का टाइम खत्म हो चूका है और यह अब बिक्री के लिए उपलब्ध है, अगर आप खरीदना चाहते हैं तो जल्दी कीजिये, आप को डोमेन मिल सकता है और आप इस के मालिक बन सकते हैं.

 

आखिर क्यों वतन समाचार को आप के सहयोग की ज़रूरत है?

 

 

 

यह उल्लेखनीय है कि इस वेबसाइट में मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के डेली के कामों का अपडेट और बहुत सारी मालूमात मौजूद थीं। इस वेबसाइट पर "मुस्लिम इंडिया" की पुरानी फाइलें भी मौजूद थीं, साथ ही कई सारे इतिहासिक दस्तावेज़ भी उपलब्ध थे।

 

آخر کیوں وطن سماچار کو آپ کی ضرورت ہے

 

 

मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के इतिहास वाले कई मूल्यवान और दुर्लभ दस्तावेज भी इस वेबसाइट पर उपलब्ध थे, लेकिन आरोप प्रत्यारोप के कारण, अब यह सब बर्बाद होते दिख रहे हैं।

 

उपरोक्त वेब-साइट का डोमेन अब DAN.com नामक साइट पर बिक्री के लिए उपलब्ध है। ऐसे समय में जब दुनिया डिजिटल युग में प्रवेश कर रही है, आल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत, भारतीय मुसलमानों का एक प्रतिष्ठित संगठन रहा है, जिस का अपना एक इतिहास है, हालाँकि इस के इतिहास से खेलने का आरोप डॉ ज़फरुल इस्लाम और मौजूदा अध्यक्ष नवेद हामिद दोनों पर है. दोनों ने मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के असल संस्थापकों में शामिल डॉ0 अब्दुल जलील फरीदी का नाम इस के इतिहास से मिटा दिया है, हालांकि बाद में नवेद हामिद ने इस गलती को स्वीकारा ज़रूर, लेकिन अब तक इस गलती को ठीक नहीं किया गया, इलियास आज़मी का कहना है की डॉ0 फरीदी कांग्रेस के विरोधी थे इस लिए उन को मुशावरत के इतिहास से मिटाने का प्रयास हुआ है, जबकि मुशावरत के सदस्य अख्तरुल वासे का मानना है की डॉ फरीदी मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के असली संस्थापकों में से एक थे. इस डिजिटल युग में मुशावरत डाट कॉम बिक्री के लिए उपलब्ध है, यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

 

 मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत से हमदर्दी रखने वालों का कहना है कि वेबसाइट में शोधकर्ताओं और विभिन्न मुस्लिम संगठनों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी थी, जिसका नुकसान वास्तव में दुखद है।

 

इस संबंध में मीडिया से बात करते हुए, मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के अध्यक्ष, नवेद हामिद ने कहा: "जब मैंने इस संगठन के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला, तो वेबसाइट काम नहीं कर रही थी। हमारे पास वेबसाइट का पासवर्ड नहीं था, क्योंकि आउट गोइंग अध्यक्ष डॉ ज़फरुल इस्लाम ने हमें यह प्रदान नहीं किया था। जब हम पुरानी वेबसाइट का पासवर्ड प्राप्त करने में विफल रहे, तो हमने एक नया वेब बनाने की योजना बनाई और एक अन्य डोमेन लिया।

 

डॉ। जफर-उल-इस्लाम खान, जो नवेद हामिद के आने से पहले मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के अध्यक्ष थे, ने नवेद हामिद के पासवर्ड न देने के आरोप को गलत बताया और कहा कि उनके पास कभी भी वेबसाइट का पासवर्ड नहीं थी। यह उन लोगों के पास था जिन के द्वारा इस को संभाला और संचालित किया जा रहा था, जिन्हें मौजूदा अध्यक्ष नवेद हामिद द्वारा बाहर कर दिया गया... अब इस का ज़िम्मेदार कौन कितना है आप खुद समझ सकते हैं, अपने एटीएम और दूसरे पासवर्ड सब को पता रहते हैं, लेकिन इस के लिए क्या आरएसएस या और कोई दूसरा अंतरराष्ट्रीय संगठन ज़िम्मेदार है इस का अंदाज़ा आप खुद लगा सकते हैं, बताने के ज़रुरत नहीं है।

 

ज़फरुल इस्लाम का कहना है कि "सैयद शहाबुद्दीन के समय में, वर्ष 2000 में, पुरानी वेबसाइट में मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के 16 वर्षों का रिकॉर्ड था। मुस्लिम इंडिया के दस्तावेजों को अलग रखा गया था। मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत की तारीख पर बहुत सारी सामग्री थी, ”।

 

मुहम्मद अलमुल्लाह इस्लाही, जिन्होंने एक युवा लेखक के रूप में मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत पर ज़फरुल इस्लाम की अध्यक्षता में रिसर्च किया था और इसका इतिहास लिखा, का कहना है कि प्रसिद्ध नौकरशाह और राष्ट्रीय नेता सैयद शहाबुद्दीन और डॉ। ज़फरुल इस्लाम खान के समय के मुशावरत बुलेटिन और मुस्लिम इंडिया की फाइल पोर्टल पर मौजूद थी जो शोधकर्ताओं के लिए किसी नेमत से कम नहीं थी, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसे बड़े एसेट को बर्बाद होने से नहीं बचाया जा सका।

 

ज्ञात रहे कि अलमुल्लाह इस्लाही ने ही मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत पर रिसर्च किया था और यह काम डॉ ज़फरुल इस्लाम के नेतृत्व में हुआ था, लेकिन उस समय मुशावरत के असली संस्थापकों में से एक डॉ फरीदी को नाम को गायब कर दिया गया था.

 

ज्ञात रहे कि मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरत के पूर्व अध्यक्ष डॉ। जफरुल इस्लाम खान के समय तक " मुशावरत बुलेटन" जारी किया गया था, लेकिन इस के अस्तित्व को भी जमात-ए-इस्लामी हिन्द के "सह रोज़ा दावत ”और“ न्यूज डाइजेस्ट ” की तरह खत्म कर दिया गया।

 

ज्ञात रहे कि अधिकतर मुस्लिम संगठनों या आंसू बहा कर मुसलमानों की ठीकेदारी का तथाकथित दावा करने वालों को सिर्फ आरएसएस या इजराइल पर टीका टिप्पणी वाली खबरें ज़्यादा पसंद आती हैं. उनके पास न आत्म निरिक्षण का समय है न आत्म चिंतन का. वह खुद के ऊपर टिका टिपण्णी वाली खबरों को आरएसएस और इजराइल की साज़िश बताते हैं और आत्म चिंतन के लिए तैयार नहीं होती और मुस्लिम क़ौम को खुद के ज़रिये बुने गए मकड़ जाल से बाहर नहीं आने देना चाहते हैं. इस लिए  इक़बाल ने कहा था " क़ुव्वते फ़िकरो अमल पहले फना होती है - तब किसी क़ौम की शौकत पे ज़वाल आता है". और ऐसे ही लोगों के लिए कहा गया है कि “जब नाश मनुज पर छाता है - पहले विवेक मर जाता है.” अब इसी लिए शायद मुस्लिम युवा इन से सवाल कर रहे हैं, जिस पर अभी भी वह आरोप प्रत्यारोप से बहार नहीं आना चाहते हैं...

 

(एशिया टाइम्स के शुक्रिये के साथ)

यदि आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो आप इसे आगे शेयर करें। हमारी पत्रकारिता को आपके सहयोग की जरूरत है, ताकि हम बिना रुके बिना थके, बिना झुके संवैधानिक मूल्यों को आप तक पहुंचाते रहें।

Support Watan Samachar

100 300 500 2100 Donate now

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.

Never miss a post

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.