Updates

राहुल की झप्पी: स्पीकर की आपत्ति ग़ैर-ज़रूरी, मोदी का सीट पर जमे: अंसारी

Rahul's Hug: The speaker's objection is unnecessary, learning to take lessons from history, being on Modi's seat is an indicator of his ego: Ansari

Ahmad Mohammad
After sharp attack on PM Narendra Modi, Rahul Gandhi's hug and a wink

तकबीर-ओ-तकब्बुर लाख करो, फितरत भी कभी बदली हैअकबर- जो मिट्टी है वो मिट्टी है, जो सोना है वो सोना है।

New Delhi: वरिष्ठ पत्रकार यूसुफ़ अंसारी ने लोक सभा में राहुल गाँधी के मोदी से गले मिलने पर लोक सभा अध्यक्ष की टिप्पड़ी को गौर मुनासिब बताया है और इतिहास से सबक़ लेने की बात कही है.  उन्हों ने अपने FB पोस्ट में लिखा है कि " राहुल गांधी के पीएम मोदी के गले मिलने पर लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की आपत्ति ग़ैर-ज़रूरी है”।

 Rahul_Gandhi.jpg

अंसारी ने आगे लिखा है कि “राहुल की इस झप्पी को हैरान करने वाला बताना लोकसभा अध्यक्ष की मर्यादा के खिलाफ है। सच तो यह है कि राहुल से गले मिलने के लिए पीएम मोदी का अपनी सीट पर जमे बैठे रहना उनके अहंकार का परिचायक है”।

 

उन्हों ने सवाल किया कि क्या देश के प्रधानमंत्री इतना शिष्टाचार भी नहीं निभा सकते कि अपने पास आए विपक्षी पार्टी के अध्यक्ष को बढिया भाषण देने पर बधाई देने के लिए खड़े ही हो जाएं। दूसरी लोकसभा में तब के प्रधानमंत्री पं जवाहर लाल नेहरू ने पहली बार सांसद बने अटल बिहारी वाजपेयी के पहले भाषण पर सब से पीछे की सीट पर खड़े वाजपेयी को वहीं जाकर बधाई दी थी और कहा था तुम एक दिन देश के प्रधानमंत्री बनोगे।

नेहरू, नेहरू थे मोदी, मोदी हैं।

अकबर इलाहबादी ने कहा है,

तकबीर-ओ-तकब्बुर लाख करो, फितरत भी कभी बदली हैअकबर- जो मिट्टी है वो मिट्टी है, जो सोना है वो सोना है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

धर्म

ब्लॉग

अपनी बात

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.