आखिर कैसे लिखी गई जस्टिस जे चेलामेश्वर की कोठी पर ऐतिहासिक घटनाक्रम की तारीख?

watansamachar desk


इतिहास में एक ऐसा दिन जब धरे के धरे रह गए मीडिया के एजेंडे

नई दिल्ली, 12 जनवरी, वतन समाचार डेस्क:

साल 2018 का दूसरा शुक्रवार देश की न्यायिक व्यवस्था में हमेशा के लिए अमर हो गया. किसी ने इस फ्राइडे को ब्लैक कह दिया तो बहुतों ने सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों के मीडिया से मुखातिब होकर न्यायिक प्रशासन पर सवाल उठाने के बाद कह दिया कि कुछ तो बात जरूर रही होगी, कि इन को बाहर आने के लिए मजबूर होना पड़ा, क्यों कि इन के चहरे मासूम हैं और यह लोग ऐसे लोग हैं जिन पर सवाल नहीं उठाया जा सकता है.

इससे पहले जब सुप्रीम कोर्ट के जज जे. चेलमेश्वर के घर से इस तारीखी वाक़ये की पूरी कहानी लिखी जा रही थी, तब वहां का पूरा माहौल घर के कर्मचारियों को अचंभित करने वाला था.

आज तक डाल इन ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से दावा किया है कि, सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्‍ठ जज जस्टिस जे चेलमेश्वर के आवास 4 तुगलक रोड पर स्टाफ को सुबह 10.45 बजे उनके बॉस की तरफ से एक संदेश आया. संदेश में स्टाफ से करीब 30 लोगों के लिए चाय-पानी का इंतेज़ाम करने को कहा गया.

स्टाफ के लोग भी जस्टिस चेलमेश्वर का यह आदेश सुनकर हैरान थे, क्यों कि यह सब पहली बार हो रहा था. उन्हें अंदाजा नहीं था कि अगले पल क्या होने वाला है, लेकिन इतना जरूर समझ आ रहा था कि कुछ जरूर महत्वपूर्ण होने जा रहा है, क्यों कि इस से पहले ऐसा आदेश कभी नहीं आया था.

3 जजों के साथ 30 मिनट बाद पहुंचे जस्टिस चेलमेश्वर

स्टाफ को फोन आने के क़रीब आधा घंटे बाद 11.15 बजे जस्टिस चेलमेश्वर सुप्रीम कोर्ट के बाकी तीन जजों जस्टिस मदन भीमराव लोकुर, जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस कुरियन जोसेफ के साथ अपने आवास पर पहुंचे. इस के बाद जस्टिस जे चेलामेश्वर ने स्टाफ को बताया कि एक कॉन्फ्रेंस के लिए मीडिया को बुलाया गया है.

जस्टिस चेलमेश्वर का मैसेज पाने वाले स्टाफ मेंबर ने बताया, ‘इसलिए हम कभी कोठी छोड़कर नहीं जाते, कुछ भी हो सकता है. हम लोगों को तो पता नहीं था हो क्या रहा है. चारों जज एक साथ आए. बाद में पता चला कि प्रेस कॉन्फ्रेंस है.’

और लगने लगा मीडिया का तांता

जस्टिस जे चेलमेश्वर के आवास पर करीब 11.30 बजे मीडियाकर्मी भी पहुंचने शुरू हो गए. इस दौरान लॉन में टेबल पर मीडिया के माइक लग गए. दोपहर करीब 12.16 बजे चारों जज लॉन पहुंचे और शॉर्ट नोटिस पर आने के लिए शुक्रिया कहा,

इसके बाद मीडिया के सामने चारों जजों ने जो इन्केशाफ किए, उसने पूरी दुनिया को चौंका दिया.

मीडिया के एजेंडे बदल गए और चर्चा सुप्रीम कोर्ट और न्यायिक व्यवस्था पर टिक गई. आवास के स्टाफ मेंबर ने अखबार को यह भी बताया कि,

प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद एक टीवी रिपोर्टर ने जस्टिस जे. चेलमेश्वर का इंटरव्यू भी मांगा, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया. मीडियाकर्मियों के लिए चाय, पानी और रसमलाई का इंतजाम किया गया था.


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *