भारत-बांग्लादेश के रिश्ते इतिहास के सबसे सुनहरे दौर में: बांग्लादेश हाई कमिश्नर

watansamachar desk


नई दिल्ली, वतन समाचार डेस्क:

नई दिल्ली में उर्दू पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत में बांग्लादेश के हाई कमिश्नर सैयद मुअज्जम अली ने भारत-बांग्लादेश के रिश्तों को इतिहास के सबसे सुनहरे दौर के रिश्तों से ताबीर करते हुए कहा है कि भारत और बांग्लादेश के रिश्ते इतिहास के सबसे सुनहरे दौर में हैं. उन्होंने बांग्लादेश सरकार के जरिए खुद को दूसरी बार हिंदुस्तान का हाई कमिश्नर बनाए जाने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह उनके लिए गौरव का पल है, जब भारत और बांग्लादेश के बीच जमीन विवाद से संबंधित सभी मामलों को हल कर लिया गया. उन्होंने कहा कि इस पूरे रीजन में बांग्लादेश एक ऐसा देश है जिसका भारत के साथ कोई भी जमीनी विवाद नहीं है. उन्होंने भारत को साथी और देरीना दोस्त बताते हुए कहा कि भारत के साथ बांग्लादेश के रिश्ते पहले दिन से ही काफी मधुर रहे हैं और इन रिश्तों ने हर रोज एक नई उड़ान को छुआ है.

उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि दोनों मुल्कों में रोड और रेल कनेक्टिविटी को और बेहतर बनाया जा सके. उन्होंने यह भी कहा कि रेल और रोड के रास्ते पहले से मौजूद हैं और उसमें काफी काम भी हुआ है जिस से दोनों देशों के लोग एक जगह से दूसरी जगह आसानी से आ जा रहे हैं, लेकिन इस को और बेहतर बनाना उनकी पहली कोशिश है.

उन्होंने वीजा संबंधित मामलों पर अपनी बात रखते हुए कहा कि वीजा के मामले में भी हम काफी बेहतरी की कोशिश कर रहे हैं ताकि दोनों देशों के लोग वीजा के तामझाम से आजाद होकर एक दूसरे के यहां आ जा सकें और मौजूदा वक़्त में लॉन्ग टर्म वीज़ा उन की पहली कोशिश है, जो कुछ लोगों को मिल भी रहा है.

उन्होंने एक्सपोर्ट में भारत की ओर से किए जाने वाले निवेश की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसमें हम और बढ़ोतरी की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारी आबादी ज्यादा है लेकिन हमारे पास वसाइल कम हैं इसलिए हमें भारत से और मदद की जरूरत है.

उन्होंने वाटर और एनर्जी सेक्टर में भारत की मदद की प्रशंसा करते हुए कहा कि हम इसको और आगे ले जाना चाहते हैं. उन्होंने यह भी बताया कि भारत और बांग्लादेश न्यूक्लियर पावर जनरेशन के लिए काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारे पास पेट्रोल नहीं है इसलिए हम और बेहतर करना चाहते हैं, ताकि हम किसी पर बोझ न बनें.

उन्होंने भारत सरकार से अपेक्षा जाहिर की कि भारत सरकार पानी और पावर के मामले में अपना भरपूर सहयोग देगी. उन्होंने कहा कि तीस्ता मामले को भी हम हल करने के काफी करीब आ गए हैं.

ज्ञात रहे कि इस अवसर पर प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के अध्यक्ष गौतम लहरी प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी जनरल विनय कुमार मैनेजिंग कमेटी के सदस्य ए यू आसिफ और पूर्व सेक्रेट्री जनरल नदीम काज़मी बांग्लादेश के कई सीनियर ऑफिसर और प्रेस क्लब के कई सीनियर सदस्य मौजूद थे.


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *