सीरिया शरणार्थी संकट हल करने के लिए तत्काल सामूहिक वैश्चिक प्रयास की जरूरत

watansamachar desk
[simple-social-share]


नयी दिल्ली: नोबेल शांति पुरस्कार विजेता और जानेमाने बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी ने सीरिया शरणार्थी संकट के लिए तत्काल सामूहिक वैश्विक प्रयास की जरूरत पर जोर दिया और कहा कि बच्चों की सुरक्षा, आजादी और शिक्षा के लक्ष्य को सामूहिक प्रयास के बिना हासिल नहीं किया जा सकता।

हाल ही में तुर्की में कुछ शरणार्थी शिविरों का दौरा करने वाले सत्यार्थी ने ‘पीटीआई-भाषा’ के साथ बातचीत में कहा, ‘‘इन शिविरों में रहने वाले ज्यादातर शरणार्थी सीरिया और इराक में हिंसा के पीड़ित लोग हैं। तस्करी, दासता और शिक्षा से उपेक्षित होना इनकी बड़ी समस्याएं हैं। इन समस्याओं को मुख्य पटल पर लाने की जरूरत है।’’

 

शरणार्थी शिविरों की दुखद स्थिति बयां करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘एक शिविर के बाहर मैं एक पिता से मिला जो अपनी 12 साल की बेटी की शादी तय कर रहा था। वह पिता यौन दासता (सेक्स स्लेवरी) की समस्या से सहमा हुआ था और बच्ची का बाल विवाह करना चाहता था ताकि उसकी बेटी इस दलदल नहीं गिरे।’’

 

सत्यार्थी ने कहा, ‘‘आज के दौर की यह बेहरहम हकीकत है जिसका सामना हम कर रहे हैं। इस संकट को हल करने के लिए तत्काल सामूहिक वैश्विक प्रयास की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बच्चों की सुरक्षा, आजादी और शिक्षा के लक्ष्य को सामूहिक प्रयास के बिना हासिल नहीं किया जा सकता। आज के समय में अगर बच्चे सुरक्षित नहीं हैं तो मानवता भी सुरक्षित नहीं है।’’


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.


[simple-social-share]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *