जानिए 500 और 2000 के नोटों की हकीकत

watansamachar desk


नई दिल्ली, 24 नवम्बर: लिखे हुए 500 और 2000 के नोट को बैंकों के जरिए ना लिए जाने की खबरों और अफवाहों के दरमियान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने साफ किया है कि कोई भी बैंक 500 और 2000 के उन नोटों को लेने से इनकार नहीं कर सकता है जिन पर कुछ लिखा हुआ है. भारतीय रिजर्व बैंक के अधिकारियों के अनुसार इन नोटों को बैंकों में बदला नहीं जा सकता है लेकिन खाताधारक अपने खातों में इन को जमा कर सकते हैं, और बैंक इन को जमा करने से मना नहीं कर सकते.

आरबीआई के अधिकारियों के अनुसार केंद्रीय बैंक पहले भी इस संबंध में भ्रम दूर कर चुका है। RBI अधिकारीयों के अनुसार प्रगति मैदान में लगे मेले के दौरान लोग हम से 500 और 2000 रुपये के नए नोटों पर कुछ लिखा होने की स्थिति में उनकी वैधता पर सवाल कर रहे हैं। हम यहस्पष्ट करना चाहते हैं कि नोट पर कुछ लिखा होने या रंग लग जाने की स्थित में भी वह वैध हैं। बैंक उन्हें लेने से इनकार नहीं कर सकते हैं। RBI मेला देखने आने वाले लोगों को नए नोटों के फीचर के बारे में भी जानकारी दे रहा है ताकि वह जाली नोटों की पहचान कर सकें।

RBI के अधिकारियों के अनुसार 500, 2000 और 200 रुपये के नोटों पर 17 फीचर हैं जबकि 50 रुपये के नए नोट पर 14 फीचर हैं।अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में रिजर्व बैंक ऑफ ​इंडिया आर्थिक साक्षरता के तहत मेले में आने वाले लोगों को जागरूक कर रहा है।

प्रगति मैदान के हॉल नंबर 18 में लगे आरबीआई के स्टॉल में लोग अपने सवाल लेकर भी पहुंच रहे हैं। कोई यहां 10 रुपये के ​सिक्कों की स्थिति​ के बारे में जानकारी ले रहा है. तो कोई 500 और 2000 रुपये के ऐसे नोटों की वैधता जानना चाह रहा है जिनपर कुछ लिखा हुआ है। तो कोई बैंक के खिलाफ शिकायत करने के तरीके के बारे में जानकारी मांग रहा है।


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *