उत्तर भारत के अल्पसंख्यकों को ‘राम’ करने का मोदी ‘मन्त्र’

watansamachar desk


अल्पसंख्यकों का बिना तुष्टीकरण, सम्मान के साथ विकास, केंद्र का संकल्प- मुख्तार अब्बास नक़वी

राष्ट्रीयतापरक शिक्षा से मिलेगी विकास को गति- योगी आदित्यनाथ

उत्तर क्षेत्र समन्वयय बैठक में 9 राज्यों के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रियों के बैठक

लखनऊ: केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने कहा है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संकल्प राज्य सरकारों के साथ समन्वय स्थापित कर अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों का समवेशी विकास करना है। लखनऊ में उत्तरी भारत के नौ राज्यों की समन्वयय बैठक की अध्यक्षता करते हुए श्री नक़वी ने कहा कि सरकार बिना तुष्टीकरण के सम्मान के साथ अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के सशक्तिकरण को लेकर गंभीर है।

उन्होने कहा कि आज की इस समन्वय बैठक में इसी के मद्देनजर विचार किया जाएगा। उन्होने कहा कि शिक्षा पर सरकार का विशेष ध्यान है, खासकर लड़कियों की शिक्षा पर। श्री नक़वी ने कहा कि विभिन्न राज्यों से आए प्रतिनिधि बैठक में सरकार की योजनाओं का फायदा लोगों तक पहुंचाने की दिशा में विचार-विमर्श करेंगे।

बैठक का उद्घाटन करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अपनी विविधता में एकता की विशेष पहचान के कारण भारत दुनिया के लिए कौतूहल का विषय रहा है। उन्होने कहा कि सरकार का पूरा प्रयास है कि योजनाओं का फायदा पारदर्शिता के साथ लोगों तक पहुंचे।

‘एक भारत क्ष्रेष्ठ भारत’ का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी को इसमें अपना योगदान देना होगा। उन्होने कहा कि विकास के लिए संवाद स्थापित करना बहुत जरूरी है। श्री योगी ने अधिकारियों और कर्मचारियों से अपेक्षा की कि वे लोगों के बीच जाकर सरकार की योजनाओं की चर्चा करें। उन्होने कहा कि योजनाएं तभी सार्थक होंगी जब उसका फायदा सभी तक पहुंचेगा।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की चर्चा करते हुए श्री योगी ने कहा कि इससे क्रांतिकारी विकास लाया जा सकता है। उन्होने कहा कि बांग्लादेश और वियतनाम रेडीमेड गार्मेंट्स के क्षेत्र में दुनिया की बाजार पर कब्जा करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होने कहा कि भारत भी कौशल विकास के जरिये इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम कर सकता है।

मदरसों और संस्कृत पाठशालाओं की परंपरागत शिक्षा प्रणाली में परिवर्तन की पैरवी करते हुए श्री योगी ने कहा कि विकास की दौड़ में आगे बढ्ने के लिए शिक्षा को विज्ञान और कम्प्युटर के साथ जोड़ना होगा। उन्होने कहा कि राष्ट्रीयता परक शिक्षा के जरिये देश के विकास को नई दिशा दी जा सकती है।
केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य राज्यमंत्री वीरेंद्र कुमार ने कहा कि विकास के क्षेत्र में युवा वर्ग की अहम भूमिका है। उन्होने कहा कि इस बैठक के जरिये आपसी अनुभवों को साझा करने के लिए मंच मिलेगा।
प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी का आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम में प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति राम शास्त्री, प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख और मोहसिन रजा तथा केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य सचिव अमेसिंग लईखम सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि और अधिकारीगण मौजूद रहे।

गौरतलब है कि उत्तर क्षेत्र की इस समन्वयय बैठक में नौ राज्यों से आए अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खासतौर पर मौजूद रहे और अपने-अपने राज्यों में अल्पसंख्यक समुदाय के कल्याण के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं पर प्रकाश डाला।


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *